Explore these ideas and more!

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में राजनांदगांव जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने विज्ञान के चमत्कारों की प्रदर्शनी देखी. जादुई दर्पण, अनंत कुंआ, समुद्र में भंवर पड़ने की प्रकिया आदि की विस्तृत जानकारी साइंस सेंटर के अधिकारियों ने दी. ग्रामीण क्षेत्र के परिवेश को प्रदर्शित करती प्रतिमा, बस्तर के वाद्य यंत्र, पहनावा, गहने इत्यादि देखकर प्रतिनिधि और उनके साथ आए बच्चे भी बेहद प्रसन्न नजर आए. वन्य प्राणियों एवं पक्षियों की आवाजें सुनकर आनन्द का अनुभव किया.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में राजनांदगांव जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने विज्ञान के चमत्कारों की प्रदर्शनी देखी. जादुई दर्पण, अनंत कुंआ, समुद्र में भंवर पड़ने की प्रकिया आदि की विस्तृत जानकारी साइंस सेंटर के अधिकारियों ने दी. ग्रामीण क्षेत्र के परिवेश को प्रदर्शित करती प्रतिमा, बस्तर के वाद्य यंत्र, पहनावा, गहने इत्यादि देखकर प्रतिनिधि और उनके साथ आए बच्चे भी बेहद प्रसन्न नजर आए. वन्य प्राणियों एवं पक्षियों की आवाजें सुनकर आनन्द का अनुभव किया.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने जादुई पानी का नल, उड़ती गेंद, मजाकिया दर्पण, ध्वनि की उत्पत्ति आदि विज्ञान आधारित माडल देखे. यहाँ मापन की प्रक्रिया, सौरमंडल में ग्रहों की स्थिति, अपनी लम्बाई-वजन मापने, रंगों की पहचान करने संबंधी प्रदर्शनी उपकरणों के माध्यम से प्रदर्शित की गई है. जिसे देखकर सबने सराहना की.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने जादुई पानी का नल, उड़ती गेंद, मजाकिया दर्पण, ध्वनि की उत्पत्ति आदि विज्ञान आधारित माडल देखे. यहाँ मापन की प्रक्रिया, सौरमंडल में ग्रहों की स्थिति, अपनी लम्बाई-वजन मापने, रंगों की पहचान करने संबंधी प्रदर्शनी उपकरणों के माध्यम से प्रदर्शित की गई है. जिसे देखकर सबने सराहना की.

धमतरी जिपंचायत प्रतिनिधियों ने देखा अभूतपूर्व विकास।

धमतरी जिपंचायत प्रतिनिधियों ने देखा अभूतपूर्व विकास।

राजनांदगांव जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने नया रायपुर स्थित पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया. यहाँ हाल ही में स्थापित आमचो गाँव में उन्होंने बस्तर की संस्कृति की झलक देखी. आदिवासियों की संस्कृति, घोटुल प्रथा का जीवंत चित्रण, काष्ठ कला का अद्भुत नमूना यहाँ देखने को मिलता है. महिला प्रतिनिधियों ने गेड़ी पर चढ़कर आनन्द लिया.

राजनांदगांव जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने नया रायपुर स्थित पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया. यहाँ हाल ही में स्थापित आमचो गाँव में उन्होंने बस्तर की संस्कृति की झलक देखी. आदिवासियों की संस्कृति, घोटुल प्रथा का जीवंत चित्रण, काष्ठ कला का अद्भुत नमूना यहाँ देखने को मिलता है. महिला प्रतिनिधियों ने गेड़ी पर चढ़कर आनन्द लिया.

नया रायपुर में निर्मित शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पहुंचे धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने भव्य मैदान का अवलोकन किया. यहाँ विशाल स्टेडियम में खूबसूरत कुर्सियों पर बैठकर हरे-हरे मैदान का नजारा किया. प्रतिनिधियों ने मोबाईल से अपने साथियों की तस्वीरें भी खींची.

नया रायपुर में निर्मित शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पहुंचे धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने भव्य मैदान का अवलोकन किया. यहाँ विशाल स्टेडियम में खूबसूरत कुर्सियों पर बैठकर हरे-हरे मैदान का नजारा किया. प्रतिनिधियों ने मोबाईल से अपने साथियों की तस्वीरें भी खींची.

"हमर छत्तीसगढ़" योजना अध्ययन यात्रा पर आए धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने मंत्रालय एवं सचिवालय भवन देखा. जहाँ मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें यहाँ के कामकाज की जानकारी दी. प्रतिनिधियों ने महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू से उनके कक्ष में मुलाकात की. प्रशासनिक ब्लाक एवं सचिव ब्लाक देखने के बाद व्यायाम कक्ष में महिला प्रतिनिधियों ने अपना दम-ख़म दिखाते जोर आजमाइश की. ट्रेडमिल पर वाक करना उनके लिए नया अनुभव था.

"हमर छत्तीसगढ़" योजना अध्ययन यात्रा पर आए धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने मंत्रालय एवं सचिवालय भवन देखा. जहाँ मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें यहाँ के कामकाज की जानकारी दी. प्रतिनिधियों ने महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू से उनके कक्ष में मुलाकात की. प्रशासनिक ब्लाक एवं सचिव ब्लाक देखने के बाद व्यायाम कक्ष में महिला प्रतिनिधियों ने अपना दम-ख़म दिखाते जोर आजमाइश की. ट्रेडमिल पर वाक करना उनके लिए नया अनुभव था.

कबीरधाम जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पुरखौती मुक्तांगन मुक्ताकाश में बस्तर की जनजातीय संस्कृति की जीवंत कलाकृतियाँ देखीं. आमचो गाँव के नाम से स्थापित किए गए क्षेत्र में आदिवासी संस्कृति की सबसे प्रसिद्ध प्रथा घोटुल एवं जात्रा पूजा के बारे में जानकारी ली. वन्य प्राणियों की काष्ठ निर्मित मूर्तियाँ बेहद आकर्षक हैं. गेड़ी पर चढ़कर प्रतिनिधियों ने तस्वीरें खिंचाई.

कबीरधाम जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पुरखौती मुक्तांगन मुक्ताकाश में बस्तर की जनजातीय संस्कृति की जीवंत कलाकृतियाँ देखीं. आमचो गाँव के नाम से स्थापित किए गए क्षेत्र में आदिवासी संस्कृति की सबसे प्रसिद्ध प्रथा घोटुल एवं जात्रा पूजा के बारे में जानकारी ली. वन्य प्राणियों की काष्ठ निर्मित मूर्तियाँ बेहद आकर्षक हैं. गेड़ी पर चढ़कर प्रतिनिधियों ने तस्वीरें खिंचाई.

छत्तीसगढ़ विधानसभा के डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी प्रेक्षा गृह में राजनांदगांव के पंचायत प्रतिनिधियों को विधानसभा सचिवालय के समन्वयक डॉ. सत्येन्द्र तिवारी ने संसदीय प्रणाली की जानकारी दी. विधानसभा सत्र, बजट, समितियों का कामकाज आदि के बारे में बताया. विधानसभा से सम्बन्धित जानकारियों की हैण्डबुक भी वितरित की गई. सदन के भीतर आसंदी, मुख्यमंत्री, मंत्रियों, संसदीय सचिवों, विपक्ष एवं अधिकारियों की बैठक व्यवस्था के सम्बन्ध में प्रतिनिधियों को विस्तार से बताया गया.

छत्तीसगढ़ विधानसभा के डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी प्रेक्षा गृह में राजनांदगांव के पंचायत प्रतिनिधियों को विधानसभा सचिवालय के समन्वयक डॉ. सत्येन्द्र तिवारी ने संसदीय प्रणाली की जानकारी दी. विधानसभा सत्र, बजट, समितियों का कामकाज आदि के बारे में बताया. विधानसभा से सम्बन्धित जानकारियों की हैण्डबुक भी वितरित की गई. सदन के भीतर आसंदी, मुख्यमंत्री, मंत्रियों, संसदीय सचिवों, विपक्ष एवं अधिकारियों की बैठक व्यवस्था के सम्बन्ध में प्रतिनिधियों को विस्तार से बताया गया.

धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचे, जहाँ सबसे पहले प्रेक्षा गृह में विधानसभा सचिवालय के समन्वयक डॉ. सत्येन्द्र तिवारी ने उन्हें विधानसभा के सत्र, यहाँ की कार्यप्रणाली, गठित समितियों का कामकाज एवं बजट प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी. विधानसभा सदन के भीतर प्रतिनिधियों को सत्र के दौरान पक्ष विपक्ष की बैठक व्यवस्था के बारे में बताया गया

धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचे, जहाँ सबसे पहले प्रेक्षा गृह में विधानसभा सचिवालय के समन्वयक डॉ. सत्येन्द्र तिवारी ने उन्हें विधानसभा के सत्र, यहाँ की कार्यप्रणाली, गठित समितियों का कामकाज एवं बजट प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी. विधानसभा सदन के भीतर प्रतिनिधियों को सत्र के दौरान पक्ष विपक्ष की बैठक व्यवस्था के बारे में बताया गया

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने जादुई पानी का नल, उड़ती गेंद, मजाकिया दर्पण, ध्वनि की उत्पत्ति आदि विज्ञान आधारित माडल देखे. यहाँ मापन की प्रक्रिया, सौरमंडल में ग्रहों की स्थिति, अपनी लम्बाई-वजन मापने, रंगों की पहचान करने संबंधी प्रदर्शनी उपकरणों के माध्यम से प्रदर्शित की गई है. जिसे देखकर सबने सराहना की.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने जादुई पानी का नल, उड़ती गेंद, मजाकिया दर्पण, ध्वनि की उत्पत्ति आदि विज्ञान आधारित माडल देखे. यहाँ मापन की प्रक्रिया, सौरमंडल में ग्रहों की स्थिति, अपनी लम्बाई-वजन मापने, रंगों की पहचान करने संबंधी प्रदर्शनी उपकरणों के माध्यम से प्रदर्शित की गई है. जिसे देखकर सबने सराहना की.

Pinterest
Search