Pinterest • The world’s catalog of ideas

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी,

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

जश्न ए आज़ादी में जाने कैसे कैसे कमाल हो गए , लोग चोर होकर के भी महान हो गए । उरूज़ पर है तेरे हौसले हवा का परचम भी , आज लहरा दे अमन

जश्न ए आज़ादी में जाने कैसे कैसे कमाल हो गए , लोग चोर होकर के भी महान हो गए । उरूज़ पर है तेरे हौसले हवा का परचम भी , आज लहरा दे अमन

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त

शहादत ज़ाया नहीं जाएगी वतन पर मिटने वालो की , सहीदों ने लहू से ख़ाक की फसलों को सींचा है । कफ़न में चैन से सोती नहीं रूहें , वतन की हिफाज़त